Shayari SMS

Shayari Collection

Dr. Kumar Vishwas Shayari Collection

मोहब्बत एक अहसासों की पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं मेरी आँखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है जो न समझे तो पानी है।
Mohabbat Ek Ehsaason Ki Paavan Si Kahani Hai,
Kabhi Kabira Diwana Tha Kabhi Meera Diwani Hai,
Yahan Sab Log Kehte Hain Meri Aankhon Mein Ansoon Hain,
Jo Tu Samjhe To Moti Hai Jo Na Samjhe To Paani Hai.

भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा,
हमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामा,
अभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मोहब्बत का,
मैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामा।
Bhramar Koi Kumudni Par Machal Baithha To Hungama,
Humare Dil Mein Koi Khwaab Pal Baithha To Hungama,
Abhi Tak Doob Kar Sunte The Sab Kissa Mohabbat Ka,
Main Kisse Ko Hakiqat Mein Badal Baithha To Hungama.

ख़त्म कुछ देर को दुनिया का झमेला कर दे,
खुद के अंदर से गुजरना है अकेला कर दे।
Khatm Kuchh Der Ko Duniya Ka Jhamela Kar De,
Khud Ke Andar Se Gujarna Hai Akela Kar De.

समन्दर पीर का अन्दर है लेकिन रो नहीं सकता
ये आँसू प्यार का मोती है इसको खो नहीं सकता
मेरी चाहत को दुल्हन तू बना लेना मगर सुन ले
जो मेरा हो नहीं पाया वो तेरा हो नहीं सकता।
Samandar Peer Ka Andar Hai Lekin Ro Nahi Sakta,
Ye Aansoo Pyar Ka Moti Hai Isko Kho Nahi Sakta,
Meri Chaahat Ko Dulhan Tu Bana Lena Magar Sun Le,
Jo Mera Ho Nahi Paya Wo Tera Ho Nahi Sakta.

बहुत टूटा बहुत बिखरा थपेड़े सह नहीं पाया,
हवाओं के इशारों पर मगर मैं बह नहीं पाया,
रहा है अनसुना और अनकहा ही प्यार का किस्सा,
कभी तुम सुन नहीं पाये कभी मैं कह नहीं पाया।
Bahut Toota Bahut Bikhra Thapede Seh Nahin Paaya,
Hawaaon Ke Ishaaron Par Magar Main Beh Nahin Paaya,
Raha Hai AnSuna Aur AnKaha Hi Pyar Ka Kissa,
Kabhi Tum Sun Nahin Paye Kabhi Main Keh Nahin Paaya.

Shayari Collection

Mohsin Naqvi Shayari Collection

हैरान हूँ के मुद्दत-ए-क़लील में मोहसिन,
वो शख्स मेरी सोच से ज़्यादा बदल गया।
Hairan Hoon Ke Muddat-e-Qaleel Mein Mohsin,
Wo Shakhs Meri Soch Se Zyada Badal Gaya.

उसकी चाहत का भरम क्या रखना,
दश्त-ए-हिजरां में क़दम क्या रखना,
हँस भी लेना कभी खुद पर मोहसिन,
हर घडी आँख को नम क्या रखना।
Uski Chaahat Ka Bharam Kya Rakhna,
Dasht-e-Hizran Mein Kadam Kya Rakhna,
Hans Bhi Lena Kabhi Khud Par Mohsin,
Har Ghadi Aankh Ko Nam Kya Rakhna.

हजूम में था वो खुल कर न रो सका होगा,
मगर यकीन है कि शब भर न सो सका होगा।
Hajoom Mein Tha Wo Khul Kar Na Ro Saka Hoga,
Magar Yakeen Hai Ki Shab Bhar Na So Saka Hoga.

हमसे बेवफ़ाई की इन्तहा क्या पूछते हो मोहसिन,
वो हम से प्यार सीखता रहा किसी और के लिए।
Humse Bewafai Ki Inteha Kya Poochhte Ho Mohsin,
Wo Hum Se Pyar Seekhta Raha Kisi Aur Ke Liye.

आज इस उजड़े हुए शहर में मोहसिन हमको,
अपने बिछड़े हुए यार की बहुत याद आयी।
Aaj Iss Ujde Huye Sheher Mein Mohsin Humko,
Apne Bichhde Huye Yaar Ki Bahut Yaad Aayi.

मेरी तन्हाई को जरुरत है तुम्हारी मोहसिन
अगर इजाज़त हो तो यादों मैं बसा लूँ तुमको।
Meri Tanhaai Ko Jarurat Hai Tumhari Mohsin
Agar Ijazat Ho To Yaadon Meim Basa Loon Tumko.

जो तेरी मुंतज़िर थी वह आँखें ही बुझ गयीं,
अब क्यों सजा रहा है चिराग़ों से शाम को।
Jo Teri Muntzir Thi Woh Aankhein Hi Bujh Gayin,
Ab Kyun Sajaa Raha Hai Chiraghon Se Shaam Ko.

कौन कहता है नफ़रतों में दर्द है मोहसिन,
कुछ मोहब्बतें भी बड़ी अज़ीयत नाक होती हैं।
Kaun Kehta Hai Nafraton Mein Dard Hai Mohsin,
Kuchh Mohabbatein Bhi Badi Aziyat Naak Hoti Hain.

ज़माने भर की निगाहों में जो खुदा सा लगे,
वो अजनबी है मगर मुझ को आशना सा लगे,
न जाने कब मेरी दुनिया में मुस्कुराएगा,
वो शख्स जो ख्वाबों में भी खफा सा लगे।

अब तो जान ही देने की बारी है मोहसिन,
मैं कहाँ तक साबित करूँ कि वफ़ा है मुझमें।
Ab To Jaan Hi Dene Ki Baari Hai Mohsin,
Main Kahan Tak Saabit Karun Ki Wafa Hai Mujhme.

वो शख़्स जिसको समझने में मुझको उम्र लगी,
बिछड़ के मुझसे किसी का हो न सका होगा।
Wo Shakhs Jisko Samajhney Mein Mujhko Umar Lagi,
Bichhad Ke Mujhse Kisi Ka Ho Na Saka Hoga.

कोई बरसात ऐसी हो जो तेरे संग बरसे मोहसिन,
तनहा तो मेरी आँखें हर रोज़ बरसती हैं।
Koi Barsaat Aisi Ho Jo Tere Sang Barase Mohsin,
Tanha To Meri Aankhein Har Roz Barasti Hain.

जब से उसने शहर छोड़ा हर रस्ता सुनसान हुआ,
अपना क्या है सारे शहर का एक जैसा नुकसान हुआ,
ये दिल ये आसेब की नगरी मस्कन सोचूँ वहमों का,
सोच रहा हूँ इस नगरी में तू कब से मेहमान हुआ।
Jab Se Usne Shehar Chhoda Har Raasta Sunsaan Hua,
Apna Kya Hai Saare Shehar Ka Ek Jaisa Nuksaan Hua,
Ye Dil Ye Aaseb Ki Nagri Maskan Sochoon Vehmon Ka,
Soch Raha Hun Iss Nagri Mein Tu Kab Se Mehman Hua.

गुमसुम सी रहगुज़र थी किनारा नदी का था,
पानी में चाँद, चाँद में चेहरा किसी का था।
GumSum Si Rahguzar Thi Kinara Nadi Ka Tha,
Paani Mein Chaand, Chaand Mein Chehra Kisi Ka Tha.

मज़ा देती हैं उनको ज़िन्दगी की ठोकरें मोहसिन,
जिनको नाम-ए-खुदा ले कर संभल जाने की आदत हो।
Maza Deti Hain Unko Zindagi Kee Thokarein Mohsin,
Jinko Naam-e-Khudaa Le Kar Sambhal Jaane Ki Aadat Ho.

एक पल में ज़िन्दगी भर की उदासी दे गया,
वो जुदा होते हुए कुछ फूल बासी दे गया,
नोच कर शाखों के तन से खुश्क पत्तों का लिबास,
ज़र्द मौसम बाँझ रुत को बे-लिबासी दे गया।

कश्ती अभी उम्मीद की डूबी तो नहीं है,
फिर क्यों तेरी आँखों में ये तूफ़ान हैं मोहसिन।
Kashti Abhi Umeed Ki Doobi To Nahi Hai,
Fir Kyun Teri Aankhon Mein Ye Toofan Hain Mohsin.

मुन्हसिर अहल-ए-सितम पर ही नहीं है मोहसिन,
लोग अपनों की इनायत से भी मर जाते हैं।
Munhasir Ehl-e-Sitam Par Hi Nahin Hai Mohsin,
Log Apnon Ki Inaayat Se Bhi Mar Jate Hain.

वो पिला कर जाम लबों से अपनी मोहब्बत का मोहसिन,
अब कहते हैं के नशे की आदत अच्छी नहीं होती।
Wo Pila Kar Jaam Labon Se Apni Mohabbat Ka Mohsin,
Ab Kehte Hain Ke Nashe Ki Aadat Achchhi Nahi Hoti.

अभी कमसिन हो, रहने दो, कहीं खो दोगी दिल मेरा,
तुम्हारे ही लिए रखा है, ले जाना जवान हो कर।
Abhi Kamsin Ho, Rehne Do, Kahin Kho Dogi Dil Mera,
Tumhare Hi Liye Rakha Hai, Le Jaana Jawaan Ho Kar.

Shayari Collection

Azeem Murtaza Shayari Collection

Aaj Tak Yaad Hai Wo Shaame-Judai Ka Samaan,
Teri Aawaaz Ki Larzish Tere Lehje Ki Thakan.
आज तक याद है वो शाम-ए-जुदाई का समाँ,
तेरी आवाज़ की लर्ज़िश तिरे लहजे की थकन।

Toota To Ajeez Aur Hua Ahel-e-Wafa Ko,
Dil Bhi Kahin Uss Shokh Ka Paimaan To Nahi Hai.
Kuchh Nakhs Teri Yaad Ke Baaki Hain Abhi Tak,
Dil Be-Sar-o-Saamaan Sahi Veeraan To Nahi Hai.
Hum Dard Ke Maare Hi Giraan-Jaan Hain Vagrana,
Jeen Teri Furkat Mein Kuchh Aasaan To Nahi Hai.
टूटा तो अज़ीज़ और हुआ अहल-ए-वफ़ा को,
दिल भी कहीं उस शोख़ का पैमाँ तो नहीं है।
कुछ नक़्श तिरी याद के बाक़ी हैं अभी तक,
दिल बे-सर-ओ-सामाँ सही वीराँ तो नहीं है।
हम दर्द के मारे ही गिराँ-जाँ हैं वगर्ना,
जीना तिरी फ़ुर्क़त में कुछ आसाँ तो नहीं है।

Ek Dard-e-Hasti Ne Umr Bhar Rifaqat Ki,
Verna Saath Deta Hai Kaun Aakhiri Dam Tak.
एक दर्द-ए-हस्ती ने उम्र भर रिफ़ाक़त की,
वर्ना साथ देता है कौन आख़िरी दम तक।

Tujhse Mil Kar Bhi Gham-e-Hijr Ki Talkhi Na Miti.
Ek Hasrat Si Ye Andaz-e-Deegar Hai Ki Jo Thi.
तुझसे मिल कर भी ग़म-ए-हिज्र की तल्ख़ी न मिटी,
एक हसरत सी ये अंदाज़-ए-दीगर है कि जो थी।

Ye Aur Baat Hai Ki Madaava-e-Gham Na Tha,
Lekin Tera Khuloos Tawakko Se Kam Na Tha.
Aaye Hain Tujhse Bichhad Kar Wo Log Bhi,
Jin Se Tallukaat Bigadne Ka Gham Na Tha.
ये और बात है कि मदावा-ए-ग़म न था,
लेकिन तिरा ख़ुलूस तवक़्क़ो से कम न था।
आए हैं याद तुझ से बिछड़ कर वो लोग भी,
जिन से ताल्लुक़ात बिगड़ने का ग़म न था।

Shayari Collection

Ahmad Faraz Shayari Collection

एक खलिश अब भी मुझे बेचैन करती है फ़राज़,
सुनके मेरे मरने की खबर वो रोया क्यूँ था।
EK Khalish Ab Bhi Mujhe BeChain Karti Hai Faraz,
Sunke Meri Marne Ki Khabar Wo Roya Kyun Tha.

जब खिजां आएगी तो लौट आएगा वो भी,
वो बहारों में जरा कम ही निकला करता है।
Jab Khizan Aayegi To Laut Aayega Wo Bhi,
Wo Bahaaron Mein Zara Kam He Nikla Karta Hai.

ज़िक्र उसका ही सही बज़्म में बैठे हो फ़राज़,
दर्द कैसा भी उठे हाथ न दिल पर रखना।
Zikr Uska Hi Sahi Bazm Main Baithhe Ho Faraz,
Dard Kaisa Bhi Uthhe Haath Na Dil Par Rakhna.

लोग तो मजबूर हैं मरेंगे पत्थर,
क्यूँ न हम शीशों से कह दें टूटा न करें।
Log To Majboor Hain Maarenge Patthar,
Kyun Na Hum Sheeshon Se Keh Dein Toota Na Karein.

जब्त-ए-ग़म कोई आसान काम नहीं फ़राज़,
आग होते है वो आँसू जो पिए जाते हैं।
Jabt-e-Gham Koyi Aasaan Kaam Nahi Faraaz,
Aag Hote Hain Wo Aansoo Jo Piye Jaate Hain.

देखा मुझे तो तर्क-ए-तअल्लुक़ के बावजूद,
वो मुस्कुरा दिया ये हुनर भी उसी का था।
Dekha Mujhe To Tark-e-Taalluk Ke Bawajood,
Wo Muskura Diya Ye Hunar Bhi Usee Ka Tha.

मेरे सब्र की इन्तेहाँ क्या पूछते हो फ़राज़,
वो मेरे सामने रो रहा है किसी और के लिए।
Mere Sabr Ki Intehaan Kya Poochhte Ho Faraz,
Wo Mere Saamne Ro Raha Hai Kisi Aur Ke Liye.

किसी बेवफ़ा की खातिर ये जुनूँ फ़राज़ कब तक,
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ।
Kisi BeWafa Ki Khatir Ye Junoon Faraz Kab Tak,
Jo Tumhein Bhula Chuka Hai Usey Tum Bhi Bhool Jaao.

कितना आसाँ था तेरे हिज्र में मरना जाना,
फिर भी इक उम्र लगी जान से जाते-जाते।
Kitna Aasaan Tha Tere Hijr Mein Marna Janaa,
Fir Bhi Ek Umr Lagi Jaan Se Jaate Jaate.

मेरे जज़्बात से वाकिफ है मेरा कलम फ़राज़,
मैं प्यार लिखूं तो तेरा नाम लिख जाता है।
Mere Jazbaat Se Waqif Hai Mera Qalam Faraz,
Main Pyaar Likhoon To Tera Naam Likh Jata Hai.

कोई मुन्तजिर है उसका कितनी शिद्दत से फ़राज़,
वो जानता है मगर अनजान बना रहता है।
Koyi Muntazir Hai Uska Kitni Shiddat Se Faraz,
Wo Janta Hai Magar Anjaan Bana Rehta Hai.

क्यों उलझता रहता है तू लोगों से फ़राज़,
जरूरी तो नहीं वो चेहरा सभी को प्यारा लगे।
Kyu Ulajhta Rehta Hai Tu Logon Se Faraz,
Jaruri To Nahi Wo Chehra Sabhi Ko Payara Lage.

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम,
तू मुझसे खफा है तो ज़माने के लिए आ।
Kis-Kis Ko Bataynge Judai Ka Sabab Hum,
Tu Mujhse Khafa Hai To Zamane Ke Liye Aa.

तुम तकल्लुफ को भी इख्लास समझते हो फ़राज़,
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला।
Tum Takalluf Ko Bhi Ikhlaas Samjhte Ho Faraz,
Dost Hota Nahi Har Haath Milaane Waala.

आने लगी थी उसकी ज़बीं पर शिकन फ़राज़,
इज़हार-ए-इश्क़ करके मुकरना पड़ा मुझे।
Aane Lagi Thi Uski Jabeen Par Shikan Faraz,
Izhaar-e-Ishq Karke Mukarna Pada Mujhe.

इस दफा तो बारिशें रूकती ही नहीं फ़राज़,
हमने आँसू क्या पिए सारे मौसम रो पड़े।
Iss Dafa To Barishein Rukti Hi Nahin Faraz,
Humne Aansoo Kya Piye Saare Mausam Ro Pade.

इन बारिशों से दोस्ती अच्छी नहीं फराज,
कच्चा तेरा मकाँ है कुछ तो ख्याल कर।
In Baarishon Se Dosti Achchhi Nahi Faraz,
Kachcha Tera Makaan Hai Kuchh To Khayal Kar.

Shayari Collection

Mir Taqi Mir Shayari Collection

एक महरूम चले ‘मीर‘ हमीं इस दुनिया से,
वर्ना आलम को जमाने ने दिया क्या-क्या कुछ।
Ek Mehroom Chale Mir Humein Iss Duniya Se,
Varna Aalam Ko Zamane Ne Diya Kya-Kya Kuchh.

हमारे आगे तिरा जब किसी ने नाम लिया,
दिल-ए-सितम-ज़दा को हम ने थाम थाम लिया।
Humare Aage Tera Jab Kisi Ne Naam Liya,
Dil-e-Sitam-Zada Ko Humne Thaam Thaam Liya.

लगा न दिल को क्या सुना नहीं तूने,
जो कुछ मीर का आशिकी ने हाल किया।
Laga Na Dil Ko Kya Suna Nahi Tu Ne,
Jo Kuchh Mir Ka Aashiqui Ne Haal Kiya.

जिन-जिन को था ये इश्क़ का आज़ार मर गए,
अक्सर हमारे साथ के बीमार मर गए।
Jin-Jin Ko Tha Ye Ishq Ka Aazaar Mar Gaye,
Aksar Humare Saath Ke Beemar Mar Gaye.

याद उस की इतनी ख़ूब नहीं मीर बाज़ आ,
नादान फिर वो जी से भुलाया न जाएगा।
Yaad Uss Ki Itni Khoob Nahi Mir Baaz Aa,
Nadaan Fir Wo Jee Se Bhulaya Na Jayega.

अब कर के फ़रामोश तो नाशाद करोगे
पर हम जो न होंगे तो बहुत याद करोगे।
Ab Kar Ke Faramosh To Nashaad Karoge,
Par Hum Jo Na Honge To Bahut Yaad Karoge.

कोई तुम सा भी काश तुम को मिले,
मुद्दआ हम को इंतिक़ाम से है।
Koi Tum Sa Bhi Kaash Tum Ko Mile,
Muddaa Hum Ko Intekaam Se Hai.

बाद मरने के मेरी कब्र पे आया वो मीर,
याद आई मेरे मसीहा को दवा मेरे बाद।
Baad Marne Ke Meri Qabr Pe Aaya Wo Mir,
Yaad Aai Mere Maseeha Ko Dawa Mere Baad.

मिरे सलीक़े से मेरी निभी मोहब्बत में,
तमाम उम्र मैं नाकामियों से काम लिया।
Mere Saleeke Se Meri Nibhi Mohabbat Mein,
Tamaam Umr Main Nakamiyon Se Kaam Liya.

ज़ख़्म झेले दाग़ भी खाए बहुत,
दिल लगा कर हम तो पछताए बहुत।
Zakhm Jhele Daag Bhi Khaaye Bahut,
Dil Laga Kar Hum To Pachhtaye Bahut.

मत सहल हमें जानो फिरता है फ़लक बरसों,
तब ख़ाक के पर्दे से इंसान निकलते हैं।
Mat Sahal Humein Jaano Firta Hai Falak Barson,
Tab Khaak Ke Parde Se Insaan Nikalte Hain.

शर्मिंदा होगे जाने भी दो इम्तिहान को,
रखेगा कौन तुमको अज़ीज़ अपनी जान से।
Sharminda Hoge Jaane Bhi Do Imtihaan Ko,
Rakhega Kaun Tumko Ajeez Apni Jaan Se.

पैमाना कहे है कोई मयख़ाना कहे है,
दुनिया तेरी आँखों को क्या-क्या न कहे है।
Paimana Kahe Hai Koi Maikhana Kahe Hai,
Duniya Teri Aankhon Ko Kya-Kya Na Kahe Hai.

Shayari Collection

Waseem Barelvi Shayari Collection

किसी को कैसे बताएँ जरूरतें अपनी,
मदद मिले न मिले आबरू तो जाती है।
Kisi Ko Kaise Batayein Jaruratein Apni,
Madad Mile Na Mile Aabroo To Jaati Hai.

उनसे कह दो मुझे ख़ामोश ही रहने दे ‘वसीम‘,
लब पे आएगी तो हर बात गिराँ गुज़रेगी।
Unse Keh Do Mujhe Khamosh Hi Rehne De Waseem,
Lab Pe Aayegi To Har Baat Giraan Gujregi.

वो मेरे घर नहीं आता मैं उसके घर नहीं जाता,
मगर इन एहतियातों से तअल्लुक़ मर नहीं जाता।
Wo Mere Ghar Nahi Aata Main Uske Ghar Nahi Jata,
Magar Inn Ehtiyaton Se Taalluk Mar Nahi Jata.

वैसे तो इक आँसू ही बहा कर मुझे ले जाए,
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता।
Waise To Ek Aansoo Hi Baha Kar Mujhe Le Jaye,
Aise Koi Toofan Hila Bhi Nahi Sakta.

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं,
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है।
Sharafaton Ki Yahan Koi Ahemiyat Hi Nahi,
Kisi Ka Kuchh Na Bigaado To Darrta Kaun Hai.

उसी को जीने का हक़ है जो इस ज़माने में,
इधर का लगता रहे और उधर का हो जाए।
Usee Ko Jeene Ka Haq Hai Jo Iss Zamane Mein,
Idhar Ka Lagta Rahe Aur Udhar Ka Ho Jaye.

फूल तो फूल हैं आँखों से घिरे रहते हैं,
काँटे बेकार हिफ़ाज़त में लगे रहते हैं।
Phool To Phool Hain Aankhon Se Gire Rehte Hain,
Kaante Bekaar Hifazat Mein Lage Rehte Hain.

हम ये तो नहीं कहते कि हम तुझसे बड़े हैं,
लेकिन ये बहुत है कि तेरे साथ खड़े हैं।
Hum Ye To Nahi Kehte Ki Hum Tujhse Bade Hain,
Lekin Ye Bahut Hai Ki Tere Saath Khade Hain.

आसमाँ इतनी बुलंदी पे जो इतराता है,
भूल जाता है ज़मीं से ही नज़र आता है।
Aasmaan itni Bulandi Pe Jo Itraata Hai,
Bhool Jata Hai Zamin Se Hi Najar Aata Hai.

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है,
समुंदरों ही के लहजे में बात करता है।
Jara Sa Qatra Kahin Aaj Agar Ubharta Hai,
Samundaron Hi Ke Lehje Mein Baat Karta Hai.

हमारे घर का पता पूछने से क्या हासिल,
उदासियों की कोई शहरियत नहीं होती।
Humare Ghar Ka Pata Puchhne Se Kya Hasil,
Udaasiyon Ki Koi Shahariyat Nahi Hoti.

दुख अपना अगर हमको बताना नहीं आता,
तुमको भी तो अंदाज़ा लगाना नहीं आता।
Dukh Apna Agar Humko Batana Nahi Aata,
Tumko Bhi To Andaza Lagana Nahi Aata.

मोहब्बत में बिछड़ने का हुनर सब को नहीं आता,
किसी को छोड़ना हो तो मुलाक़ातें बड़ी करना।
Mohabbat Mein Bichhadne Ka Hunar Sabko Nahi Aata,
Kisi Ko Chhodna Ho To Mulakaatein Badi Karna.

ग़म और होता सुन के गर आते न वो ‘वसीम‘,
अच्छा है मेरे हाल की उनको ख़बर नहीं।
Gham Aur Hota Sunke Gar Aate Na Wo Waseem,
Achchha Hai Mere Haal Ki Unko Khabar Nahi.

इसी ख़याल से पलकों पे रुक गए आँसू,
तिरी निगाह को शायद सुबूत-ए-ग़म न मिले।
Isee Khayal Se Palkon Pe Ruk Gaye Aansoo,
Teri Nigaah Ko Shayad Suboot-e-Gham Na Mile.

जो मुझ में तुझ में चला आ रहा है बरसों से,
कहीं हयात इसी फ़ासले का नाम न हो।
Jo Mujhmein Tujhmein Chala Aa Raha Hai Barson Se,
Kahin Hayat Isee Faasle Ka Naam Na Ho.

तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों,
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है।
Tum Aa Gaye Ho To Kuchh Chaandni Si Baatein Hon,
Zamin Pe Chaand Kahan Roz Roz Utarta Hai.

तुम मेरी तरफ़ देखना छोड़ो तो बताऊँ,
हर शख़्स तुम्हारी ही तरफ़ देख रहा है।
Tum Meri Taraf Dekhna Chhodo To Bataaun,
Har Shakhs Tumhari Hi Taraf Dekh Raha Hai.

Shayari Collection

Rahat Indori Shayari Collection

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता है,
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है,
रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं,
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है।
Roz Taaron Ki Numaaish Mein Khalal Padta Hai,
Chaand Pagal Hai Andhere Mein Nikal Padta Hai,
Roz Patthar Ki Himayat Mein Ghazal Likhte Hain,
Roz Sheeshon Se Koi Kaam Nikal Padta Hai.

वो चाहता था कि कासा खरीद ले मेरा,
मैं उसके ताज की क़ीमत लगा के लौट आया।
Wo Chahta Tha Ki Kaasa Khareed Le Mera,
Main Uske Taaj Ki Qeemat Laga Ke Laut Aaya.

ये हादसा तो किसी दिन गुजरने वाला था,
मैं बच भी जाता तो एक रोज मरने वाला था,
मेरा नसीब, मेरे हाथ कट गए वरना,
मैं तेरी माँग में सिन्दूर भरने वाला था।
Ye Haadsa To Kisi Din Gujarne Wala Tha,
Main Bach Bhi Jata To Ek Roz Marne Wala Tha,
Mera Naseeb, Mere Haath Kat Gaye Varna,
Main Teri Maang Mein Sindoor Bharne Wala Tha.

हाथ खाली हैं तेरे शहर से जाते-जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुजरी है तेरे शहर में आते जाते।
Haath Khali Hain Tere Shahar Se Jate-Jate,
Jaan Hoti To Meri Jaan Lutaate Jate,
Ab To Har Haath Ka Patthar Humein Pehchanta Hai,
Umr Gujri Hai Tere Shahar Mein Aate-Jate.

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर,
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जाएँ।
Bahut Guroor Hai Dariya Ko Apne Hone Par,
Jo Meri Pyaas Se Uljhe To Dhajjiyan Ud Jayein.

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो।
Aankhon Mein Pani Rakho Honthho Pe Chingari Rakho,
Zinda Rahna Hai To Tarkeebein Bahut Saari Rakho,

उसे अब के वफ़ाओं से गुजर जाने की जल्दी थी,
मगर इस बार मुझको अपने घर जाने की जल्दी थी,
मैं आखिर कौन सा मौसम तुम्हारे नाम कर देता,
यहाँ हर एक मौसम को गुजर जाने की जल्दी थी।
Use Ab Ke Wafaon Se Gujar Jaane Ki Jaldi Thi,
Magar Iss Baar Mujhko Apne Ghar Jaane Ki Jaldi Thi,
Main Aakhir Kaun Sa Mausam Tumhare Naam Kar Deta,
Yehan Har Ek Mausam Ko Gujar Jaane Ki Jaldi Thi.

अंदर का ज़हर चूम लिया धुल के आ गए,
कितने शरीफ़ लोग थे सब खुल के आ गए।
Andar Ka Zeher Choom Liya Dhul Ke Aa Gaye,
Kitne Shareef Log The Sab Khul Ke Aa Gaye.

चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,
इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​
महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,
जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।
Chehron Ke Liye Aaine Qurbaan Kiye Hain,
Iss Shauk Mein Apne Bade Nuksaan Kiye Hain,
Mehfil Mein Mujhe Gaaliyan Dekar Hai Bahut Khush,
Jis Shakhs Par Maine Bade Ehsaan Kiye Hain.

मैंने अपनी खुश्क आँखों से लहू छलका दिया,
इक समंदर कह रहा था मुझको पानी चाहिए।
Maine Apni Khushk Aankhon Se Lahoo Chhalka Diya,
Ik Samandar Keh Raha Tha Mujhko Paani Chahiye.