Shayari SMS

Mother’s Day Shayari

Maa To Jannat Ka Phool Hai

माँ तो जन्नत का फूल है,
प्यार करना उसका उसूल है,
दुनिया की मोहब्बत फिजूल है,
माँ की हर दुआ कबूल है,
माँ को नाराज करना इंसान तेरी भूल है,
माँ के कदमों की मिट्टी जन्नत की धूल है।

Maa To Jannat Ka Phool Hai,
Pyaar Karna Uska Usool Hai,
Duniya Ki Mohabbat Fijool Hai,
Maa Ki Har Dua Kabool Hai,
Maa Ko Naraaj Karna Insaan Teri Bhul Hai.
Maa Ke Kadmo Ki Mitti Jannat Ki Dhool Hai.

Mother’s Day Shayari

Sab Kuchh Mil Jata Hai Duniya Mein Magar

सबकुछ मिल जाता है दुनिया में मगर,
याद रखना की बस माँ-बाप नहीं मिलते,
मुरझा कर जो गिर गए एक बार डाली से,
ये ऐसे फूल हैं जो फिर नहीं खिलते।

Sab Kuchh Mil Jata Hai Duniya Mein Magar,
Yaad Rakhna Ki Bas Maa-Baap Nahi Milte,
Murjha Kar Jo Gir Jaaye Ek Baar Dali Se,
Yeh Aise Phool Hain Jo Phir Nahi Khilte.

Mother’s Day Shayari

Sachche Rishto Ki Ye Gehraiyan To Dekhiye

सच्चे रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये,
चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ,
हम खुशियों में माँ को भले ही भूल जायें,
जब मुसीबत आ जाए तो याद आती है माँ।

Sachche Rishto Ki Ye Gehraiyan To Dekhiye,
Chot Lagti Hai Hamein Aur Chillati Hai Maa,
Hum Khushiyon Mein Maa Ko Bhale Bhi Bhool Jayein,
Jab Museebat Aa Jaye To Yaad Aati Hai Maa.

Mother’s Day Shayari

Apni Maa Ko Kabhi Na Dekhu To Chain Nahi Aata Hai

अपनी माँ को कभी न देखूँ तो चैन नहीं आता है,
दिल न जाने क्यूँ माँ का नाम लेते ही बहल जाता है।

Apni Maa Ko Kabhi Na Dekhu To Chain Nahi Aata Hai,
Dil Na Jaane Kyun Maa Ka Naam Lete Hi Bahal Jata Hai.

Mother’s Day Shayari

Umar Bhar Teri Mohabbat Meri Khidmatgar Rahi Maa

उमर भर तेरी मोहब्बत मेरी खिदमतगार रही माँ,
मैं तेरी खिदमत के काबिल जब हुआ तू चली गयी माँ।

Umar Bhar Teri Mohabbat Meri Khidmatgar Rahi Maa,
Main Teri Khidmat Ke Kabil Jab Hua Tu Chali Gayi Maa.

Mother’s Day Shayari

Kisi Ko Ghar Mila Kisi Ke Hisse Mein Dukaan Aayi

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकान आई,
मैं घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई।

Kisi Ko Ghar Mila Kisi Ke Hisse Mein Dukaan Aayi,
Main Ghar Mein Sabse Chhota Tha Mere Hisse Mein Maa Aayi.

Mother’s Day Shayari

Nahi Ho Sakta Kad Tera Uncha Kisi Bhi Maa Se Ai Khuda

नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से ऐ खुदा,
तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इंसान बनाती है।

Nahi Ho Sakta Kad Tera Uncha Kisi Bhi Maa Se Ai Khuda,
Tu Jise Aadmi Banata Hai Woh Use Insaan Banati Hai.