Shayari SMS

Judaai Shayari

Tu To Hans-Hans Kar Jee Raha Hai Juda Hokar

तू तो हँस-हँस कर जी रहा है जुदा होकर भी,
कैसे जी पाया होगा वो, जिसकी जिंदगी है तू।

Tu To Hans-Hans Kar Jee Raha Hai Juda Hokar Bhi,
Kaise Jee Paya Hoga Woh Jiski Zindagi Hai Tu.

Judaai Shayari

Humne Pyar Nahi, Ishq Nahi, Ibaadat Ki Hai

हमने प्यार नहीं, इश्क नहीं, इबादत की है,
रस्मों से रिवाजों से बगावत की है,
माँगा था जिसे हमने अपनी दुआओं में,
उसी ने मुझसे जुदा होने की चाहत की है।

Humne Pyar Nahi, Ishq Nahi, Ibaadat Ki Hai,
Rasmon Se Riwajon Se Bagaawat Ki Hai,
Maanga Tha Jise Hum Ne Apni Duaaon Mein,
Usee Ne Mujhse Juda Hone Ki Chahat Ki Hai.

Judaai Shayari

Humara Dil Kisi Gehri Judaai Ke Bhanwar Mein

हमारा दिल किसी गहरी जुदाई के भँवर में है,
हमारी आँख भी नम है कभी मिलने चले आओ,
हवाओं और फूलों की नई खुशबू बताती है,
तुम्हारे आने का मौसम है कभी मिलने चले आओ।

Humara Dil Kisi Gehri Judaai Ke Bhanwar Mein Hai,
Humari Aankh Bhi Nam Hai Kabhi Milne Chale Aao,
Hawaaon Aur Phoolon Ki Nayi Khushboo Batati Hai,
Tumhare Aane Ka Mausam Hai Kabhi Milne Chale Aao.

Judaai Shayari

Humne Pyar Mohabbat Nahi Ibaadat Ki Hai

हमने प्यार मोहब्बत नहीं इबादत की है,
रस्मों और रिवाजों से बगावत की है,
माँगा था हमने जिसे अपनी दुआओं में,
उसी ने मुझसे जुदा होने की चाहत की है।

Humne Pyar Mohabbat Nahi Ibaadat Ki Hai,
Rasmon Aur Riwajon Se Bagaawat Ki Hai,
Maanga Tha Humne Jise Apni Duaaon Mein,
Usi Ne Mujhse Juda Hone Ki Chahat Ki Hai.

Judaai Shayari

Ek Umr Bhar Ki Judai Mera Naseeb Karke

एक उम्र भर की जुदाई मेरा नसीब करके,
वो तो चला गया है बातें अजीब करके,
तर्ज़-ए-वफ़ा को उसकी क्या नाम दूँ मैं अब,
खुद दूर हो गया है मुझको करीब करके।

Ek Umr Bhar Ki Judai Mera Naseeb Karke,
Wo To Chala Gaya Hai Baatein Ajeeb Karke,
Tarz-e-Wafa Ko Uski Kya Naam Doon Main Ab,
Khud Door Ho Gaya Hai Mujhko Kareeb Karke.

Judaai Shayari

Aao Kisi Shab Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho

आओ किसी शब मुझे टूट के बिखरता देखो,
मेरी रगों में ज़हर जुदाई का उतरता देखो,
किस-किस अदा से तुझे माँगा है खुदा से,
आओ कभी मुझे सजदों में सिसकता देखो।

Aao Kisi Shab Mujhe Toot Ke Bikharta Dekho,
Meri Rago Mein Zehar Judayi Ka Utarata Dekho,
Kis-Kis Adaa Se Tujhe Manga Hai Khuda Se,
Aao Kabhi Mujhe Sajadon Me Siskata Dekho.

Judaai Shayari

Ishq To Bas Mukaddar Hai Koyi Khwaab Nahi

इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,
ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पे गिन लो,
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।

Ishq To Bas Mukaddar Hai Koyi Khwaab Nahi,
Ye Wo Manzil Hai Jis Mein Sab Kamyaab Nahi,
Jinhein Saath Mila Unhen Ungliyo Pe Gin Lo,
Jinhein Mili Judai Unka Koyi Hisaab Nahi.