Shayari SMS

Hurt Shayari

Zakhm Jo Tu Ne Diya Bahut Gehra Diya

ज़ख्म जो तूने दिया बहुत गहरा दिया,
करके वादा तूने हमको भुला दिया,
दर्द देने वाले तेरा दिल से शुक्रिया,
जो जिंदगी का तूने मतलब सिखा दिया।

Zakhm Jo Tu Ne Diya Bahut Gehra Diya,
Karke Vaada Tu Ne Humko Bhula Diya,
Dard Dene Wale Tera Dil Se Shukriya,
Jo Zindagi Ka Tu Ne Matlab Sikha Diya.

Hurt Shayari

Mohabbat Mein Lakhon Zakhm Khaye Humne

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाए हमने,
अफ़सोस उन्हें हम पर ऐतबार नहीं,
मत पूछो क्या गुजरती है मेरे दिल पर,
जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं।

Mohabbat Mein Lakhon Zakhm Khaye Humne,
Afsos Unhein Hum Par Aitbar Nahi,
Mat Puchho Kya Gujarti Hai Mere Dil Par,
Jab Woh Kehte Hain Humein Tumse Pyar Nahi.

Hurt Shayari

Bas Tumhein Paane Ki Tamanna Nahi Rahi

बस तुम्हें पाने की तमन्ना नहीं रही,
मोहब्बत तो आज भी तुमसे बेशुमार करते हैं।

Bas Tumhein Paane Ki Tamanna Nahi Rahi,
Mohabbat To Aaj Bhi Tumse Beshumar Karte Hain.

Hurt Shayari

Haan Mujhe Rasm-e-Mohabbat Ka Saleeka Hi

हाँ मुझे रस्म-ए-मोहब्बत का सलीक़ा ही नहीं,
जा किसी और का होने की इजाज़त है तुझे।

Haan Mujhe Rasm-e-Mohabbat Ka Saleeka Hi Nahi,
Ja Kisi Aur Ka Hone Ki Ijaazat Hai Tujhe.

Hurt Shayari

Tu Bhi Auro Ki Tarah Mujhse Kinara Kar Le

तू भी औरों की तरह मुझसे किनारा कर ले,
सारी दुनिया से बुरा हूँ तेरे काम का नहीं।

Tu Bhi Auro Ki Tarah Mujhse Kinara Kar Le,
Saari Dunia Se Bura Hoon Tere Kaam Ka Nahi.

Hurt Shayari

Mohabbat Ki Misaal Mein, Bas Itna Hi Kahunga

मोहब्बत की मिसाल में बस इतना ही कहूँगा।
बेमिसाल सज़ा है किसी बेगुनाह के लिए।

Mohabbat Ki Misaal Mein, Bas Itna Hi Kahunga,
BeMisaal Sazaa Hai Kisi Be-Gunaah Ke Liye.

Hurt Shayari

Diye Hain Zakhm To Marham Ka Takalluf Na

दिए हैं ज़ख्म तो मरहम का तकल्लुफ न करो,
कुछ तो रहने दो मेरी जात पे एहसान अपना।

Diye Hain Zakhm To Marham Ka Takalluf Na Karo,
Kuchh To Rehne Do Meri Jaat Pe Ehsaan Apna.