Shayari SMS

Gham Shayari

Humein Mat Sataao Hum Sataye Huye Hain

Humein Mat Sataao Hum Sataye Huye Hain,
Akele Rahne Ka Gham Uthhaye Huye Hain,
Yoon Khilona Samajh Kar Na Khelo Hum Se,
Hum Bhi Usi Khuda Ke Banaye Huye Hain.

हमें मत सताओ हम सताए हुए हैं,
अकेले रहने का ग़म उठाये हुए हैं,
यूँ खिलौना समझ कर न खेलो हमसे,
हम भी उसी खुदा के बनाये हुए हैं।

Gham Shayari

Shiqayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है,
मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है,
पुकारा है तुझे मंजिल ने लेकिन मैं कहाँ जाऊं,
बिछड़ कर तेरी दुनिया से कहाँ मेरा ठिकाना है।

Shiqayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka Fasaana Hai,
Mere Aage Mohabbat Hai Tere Aage Zamana Hai,
Pukara Hai Tujhe Manzil Ne Lekin Main Kahan Jaaun,
Bichhad Kar Teri Duniya Se Kahan Mera Thhikana Hai.

Gham Shayari

Har Gham Se Wasta Raha Hai Humara Sahab

हर ग़म से वास्ता रहा है हमारा साहब,
इलाज हम से बेहतर हकीम क्या बतायेंगे।

Har Gham Se Wasta Raha Hai Humara Sahab,
Ilaaj Hum Se Behtar Haqeem Kya Bateyenge.

Gham Shayari

Duniya Bhi Mili Ghame-e-Duniya Bhi Mili Hai

दुनिया भी मिली गम-ए-दुनिया भी मिली है,
वो क्यूँ नहीं मिलता जिसे माँगा था खुदा से।

Duniya Bhi Mili Ghame-e-Duniya Bhi Mili Hai,
Wo Kyun Nahi Milta Jise Manga Tha Khuda Se.

Gham Shayari

Har Haal Mein Hansne Ka Hunar Paas Tha Jinke

हर हाल में हँसने का हुनर पास था जिनके,
वो रोने लगे हैं तो कोई बात तो होगी।

Har Haal Mein Hansne Ka Hunar Paas Tha Jinke,
Wo Rone Lage Hain To Koi Baat To Hogi.

Gham Shayari

Iss Se BarhKar Dost Koi Doosra Hota Nahi

इस से बढ़कर दोस्त कोई दूसरा होता नहीं,
सब जुदा हो जायें लेकिन ग़म जुदा होता नहीं।

Iss Se BarhKar Dost Koi Doosra Hota Nahi,
Sab Juda Ho Jayein Lekin Gham Juda Hota Nahi.

Gham Shayari

Rakhe Hain Dil Mein Humne Bade Ehatraam Se

रखे हैं दिल में हमने बड़े एहतराम से,
जो ग़म दिए हैं तुमने मोहब्बत के नाम से।

Rakhe Hain Dil Mein Humne Bade Ehatraam Se,
Jo Gham Diye Hain Tumne Mohabbat Ke Naam Se.