Shayari SMS

खुशिओं का कारोबार…


हम तो खुशियाँ उधार देने का
कारोबार करते हैं… साहब

कोई वक़्त पे लौटाता नहीं है
इसलिए घाटे में हैं..!

Spread the love

Leave a Reply

Required fields are marked *.