Shayari SMS

उल्फत का दस्तूर शायरी…


उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,
दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,
जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है।

Leave a Reply

Required fields are marked *.