Shayari SMS

Aankhein Shayari

Aankhein Shayari, Kisi Ki Najar Mujhe

UthhTi Nahi Hai Aankh Kisi Aur Ki Taraf,
Paband Kar Gayi Hai Kisi Ki Najar Mujhe,
Imaan Ki Toh Ye Hai Ke Imaan Ab Kahan,
Kafir Banaa Gayi Teri Kafir Najar Mujhe.

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।

Mahekta Hua Jism Tera Gulaab Jaisa Hai,
Neend Ke Safar Mein Tu Ek Khwaab Jaisa Hai,
Do Ghoont Pee Lene De Aankhon Ke Iss Pyaale Se,
Nashaa Teri Aankhon Mein Sharab Jaisa Hai.

महकता हुआ जिस्म तेरा गुलाब जैसा है,
नींद के सफर में तू एक ख्वाब जैसा है,
दो घूँट पी लेने दे आँखों के इस प्याले से,
नशा तेरी आँखों का शराब जैसा है।

Nasha Jaroori Hai Zindagi Ke Liye,
Par Sirf Sharab Hi Nahi Hai Bekhudi Ke Liye,
Kisi Ki Mast Nigaahon Mein Doob Jaao,
Bada Haseen Samandar Hai Khudkhushi Ke Liye.

नशा जरूरी है ज़िन्दगी के लिए,
पर सिर्फ शराब ही नहीं है बेखुदी के लिए,
किसी की मस्त निगाहों में डूब जाओ,
बड़ा हसीं समंदर है ख़ुदकुशी के लिए।